सोनीपत – खेत में युवक की  गोली मारकर हत्या

0
16

रिपोर्ट -सुरेंद्र /सोनीपत – गोहाना के गांव भैंसवाल कलां में खेत में हराचारा लेने गए युवक की  गोली मारकर हत्या कर दी गई। घटना के समय खेत में पहुंचे युवक के चचेरे भाई को देखकर हमलावर उसे भी जान से मारने की धमकी देकर फरार हो गए। पुलिस ने चचेरे भाई की शिकायत पर दो नामजद समेत सात के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। परिजनों ने हमलावरों से किसी तरह की रंजिश होने से मना किया है।
गांव भैंसवाल कलां निवासी कुलदीप ने बताया कि शनिवार देर शाम को वह अपने खेत में गया था। वहां पर उसका चचेरा भाई पवन (32) भी अपने खेत से ज्वार लेने आया था। कुलदीप का कहना है कि वह अपने खेत में था और पवन खेत के साथ ही पिनाना रोड की पुलिया पर अपनी बाइक पर बैठा था। उसी दौरान गांव का रोहित, बनी व एक अन्य युवक पैदल ही हथियार लेकर वहां पहुंचे। युवकों ने आते ही पवन पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दी। पवन की मौके पर ही मौत हो गई। इसके बाद तीन-चार युवक खेतों की तरफ से आए और वह रोहित व उसके साथियों को लेकर कच्चे रास्ते से गुहणा गांव की तरफ भाग गए। हमलावर जाते समय कुलदीप को भी जान से मारने की धमकी दे गए। सूचना मिलने पर पुलिस की टीम मौके पर पहुंची। पुलिस ने मौके से 15 गोलियों के खोल बरामद किए है। पुलिस ने शव को सामान्य अस्पताल में भिजवा दिया। रविवार को सामान्य अस्पताल से शव को पोस्टमार्टम के लिए गांव खानपुर कलां स्थित बीपीएस राजकीय महिला मेडिकल कॉलेज के अस्पताल भेजा गया। पुलिस ने कुलदीप की शिकायत पर रोहित, बनी सहित सात के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है। बताया गया है कि पवन को करीब 12 गोली मारी गई। कुलदीप का कहना है कि उनके परिवार की किसी से कोई रंजिश नहीं है। हमलावरों से भी पवन या अन्य परिजनों की कभी कोई कहासुनी नहीं हुई। पुलिस ने विभिन्न पहलुओं को लेकर जांच शुरू कर दी है।

गांव भैंसवाल कलां निवासी पवन के चचेरे भाई तत्कालीन सरपंच मुकेश की अक्तूबर, 2011 में हत्या कर दी गई थी। मुकेश के साथ उनके चाचा बलराज की हत्या भी की गई थी। उस मामले में दोनों पक्षों में समझौता हो चुका है। पवन की हत्या के मामले में जिन युवकों के नाम सामने आए हैं ग्रामीण उनसे कोई रंजिश नहीं बता रहे हैं। हत्याओं के मामले में गांव भैंसवाल कलां कई बार सुर्खियों में रहा है। वर्ष 2019 में भी रंजिश के चलते गांव के ही दो पक्षों से सात लोगों की हत्या हुई थी।