करनाल – करनाल में करीब 1500 करोड़ रुपये की लागत से बनेगा ईस्टर्न बाईपास: उपायुक्त 

0
152

करनाल – उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने बताया कि करनाल में ईस्टर्न बाईपास के रूप में बड़ी सौगात मिलने जा रही है जोकि कर्ण लेक से शुरू होकर कुंजपुरा होते हुए मधुबन नेशनल हाईवे को क्रॉस करता हुआ मुनक रोड पर निकलेगा। इस पर करीब 1500 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है, जून 2021 तक इस बाईपास के लिए भूमि अधिग्रहण का कार्य शुरू हो जाएगा।
उपायुक्त शुक्रवार को लघु सचिवालय के सभागार में मासिक प्रैस वार्ता में जानकारी दे रहे थे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने करनाल में अनेक बड़ी सौगात दी हैं जिनमें आरआरटीसी कॉरिडोर जिसका विस्तार करनाल तक हो गया है, इसके आरंभ होने के बाद करनाल के लोगों को दिल्ली जाने में करीब एक घंटा मात्र लगेगा। इस गाड़ी का पानीपत के बाद घरौंडा, साऊथ करनाल का शहरी क्षेत्र तथा नॉर्थ क्षेत्र बलड़ी बाईपास पर स्टेशन बनाए जाएंगे। करनाल को स्मार्ट सिटी का दर्जा मिलने के बाद इस शहर में कारोड़ों रुपये के विकास कार्य चल रहे हैं। शहर में स्मार्ट लाईटें लगाई जाएंगी, इसका मार्च तक टैंडर का कार्य पूरा कर लिया जाएगा।

उपायुक्त ने बताया कि मेरठ रोड के 6 और 4 लेन का कार्य प्रगति पर है, 2022 तक इस कार्य को पूरा कर लिया जाएगा। क्षेत्र के लोगों की मांग पर नगला-मेघा के चौराहे पर फ्लाईओवर बनाया जाएगा, इससे 25 गांवो के लोगों को आवाजाही में सुविधा मिलेगी।

उपायुक्त ने बताया कि सहकारी चीनी मिल करनाल का नवीनीकरण का कार्य अंतिम चरण में है। इस शुगर मिल की पिराई क्षमता 2200  क्विंटल से बढ़ाकर 3500 क्विंटल प्रतिदिन हो जाएगी। शुगर मिल में बिजली संयंत्र भी लगाया जाएगा। इस पर करीब 270 करोड़ रूपये खर्च आया है, 30 मार्च को इसका ट्रायल लिया जाएगा और मुख्यमंत्री शीघ्र ही इसका उद्घाटन करेंगे।

उपायुक्त ने बताया कि सिविल एविएलेशन क्लब का कार्य आरंभ हो चुका है, किसानों से जमीन का अधिग्रहण कार्य पूरा हो गया है। करीब एक सप्ताह में किसानों के खाते में उनकी जमीन का पैसा जमा हो जाएगा। उन्होंने बताया कि हवाई पट्टी की लम्बाई 5 हजार फीट की जाएगी।

उपायुक्त ने बताया कि काछवा-कैथल रोड के बीच कैनाल फ्रंट बनाया जा रहा है, जिस पर करीब 6 करोड़ 50 लाख रुपये खर्च आएगा। यह कार्य अक्तूबर से नवम्बर के बीच में पूरा कर लिया जाएगा। इसके बनने से शहर के लोगों को विशेष लाभ मिलेगा। उपायुक्त ने प्रैस वार्ता में बताया कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल के निर्देशों के अनुसार कर्ण लेक का सौंदर्यीकरण किया जाएगा। जल्दी ही इस पर कार्य शुरू हो जाएगा। इसका असैसमेंट बनाया जा रहा है।

उपायुक्त ने बताया कि जिला में बसताड़ा, बस्तली, तरावड़ी, पाढा, जुंडला, जयसिंहपुरा में राजकीय कन्या महाविद्यालय बनाए जा रहे हैं, संभव है कि इसी सत्र में कॉलेजों में कक्षाएं लगाई जाएंगी। अराईपुरा गांव में भी एनसीसी अकादमी का निर्माण कार्य प्रगति पर है।

उपायुक्त ने बताया कि स्मार्ट सिटी के तहत करनाल शहर के सभी पार्कों में ओपन एयर जिम लगाई जाएंगी। अब तक 70 पार्कों में यह जिम लगाने का कार्य चल रहा है। उन्होंने बताया कि शहर के नमस्त चौंक से लेकर कर्ण लेक तक 7 फ्लाईओवर हैं। इन फ्लाईओवरो का नवीनीकरण व सौंदर्यीकरण किया जाएगा। इस कार्य को 6 माह में पूरा कर लिया जाएगा।

डीसी ने बताया कि शहीद भगत सिंह, सुखदेव व राजगुरू के शहीदी दिवस 23 मार्च को निफा द्वारा संवेदना के नाम से 1500 ब्लड डोनेशन कैंप आयोजित किए जाएंगे। इन रक्तदान शिविरों से 90 हजार यूनिट रक्त इक_ा किया जाएगा। यह अपने आप में एक रिकॉर्ड रहेगा। उन्होने आमजन से अपील की कि वे इस रक्तदान शिविर में भाग लें।

डीसी ने कहा कि कोरोना महामारी का प्रकोप जारी है, लोगों को कोविड-19 के नियमों का पालन करना चाहिए। अभी लॉकडाउन करने का कोई सरकार का निर्णय नहीं है। उन्होंने कहा कि इसमें सख्ती जरूर होगी, बिना मास्क के चालान काटे जाएंगे और स्कूलों में व्यापक चैकिंग की जाएगी। मास्क व सैनिटाईजर का प्रयोग न करने वालों के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कहा कि जिले में 17 टीमें इस कार्य के लिए हर समय सतर्क रहेंगी।

डीसी ने बताया कि गेहंू की खरीद 1 अप्रैल से शुरू की जाएगी। सभी मंडियो में व्यापक प्रबंध किए गए हैं, किसानों को अपनी फसल बेचने के लिए मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर रजिस्टर करना होगा। जो किसान अपनी फसल को रजिस्टर्ड नहीं करेगा, उसकी फसल क्रम अनुसार बाद में खरीदी जाएगी। उन्होंने कहा कि पहले प्रदेश के किसानों की फसल खरीदी जाएगी उसके बाद अन्य बाहरी क्षेत्रों की खरीद की जाएगी। इस बार भ्रष्टाचार पर रोक लगाई जाएगी।

उपायुक्त ने बताया कि पुराने बस अड्डे की 8 एकड़ जमीन पर शहर की लोकल बसों का अड्डा, प्लाजा व लाइब्रेरी तथा पार्क विकसित किया जाएगा तथा नगर निगम के पुराने कार्यालय में पार्किंग बनाने की योजना है। प्रैस वार्ता में एसपी गंगाराम पुनिया ने बताया कि जिले में कानून व्यवस्था सुदृढ़ है, पुलिस का प्रयास रहता है कि किसी भी व्यक्ति के साथ अन्याय न हो। एक सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि नगर निगम द्वारा एनडीसी की धांधली में 209 एनओसी दी गई जिनमें से 106 की रजिस्ट्रियां अवैध कॉलोनियों की हो चुकी हैं। उन्होंने बताया कि सॉफ्टवेयर हैक नहीं किया गया बल्कि पोर्टल पर अवैध कॉलोनी की जगह वैध कॉलोनी दिखाकर रजिस्ट्री हुई है। उन्होंने अवैध खनन को लेकर कहा कि खनन व पुलिस विभाग तालमेल के साथ अवैध खनन को रोकने का कार्य करेंगी, दोषियों के खिलाफ कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।