करनाल -उपायुक्त ने कोरोना से ठीक हो चुके लोगों से प्लाजमा दान करने की अपील की

0
22

करनाल – उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने जिलावासियों से अपील की है कि कोरोना महामारी से ठीक हो चुके लोग अपना प्लाजमा दान करें तथा अन्य संक्रमित लोगों को इस महामारी से बचाने में अपना सहयोग करें। उन्होंने बताया कि कल्पना चावला राजकीय मेडिकल कॉलेज में प्लाजमा बैंक की स्थापना की गई है। उन्होंने बताया कि जिले में कोरोना संक्रमण से 7058 के मुकाबले 5840 व्यक्ति ठीक हो चुके हैं, इस प्रकार रिकवरी रेट 81 प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि कोरोना से संक्रमित व्यक्तियों के ईलाज के लिए प्लाजमा की आवश्यकता होती है, परंतु प्लाजमा डोनेट करने के लिए कम व्यक्ति सामने आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना से ठीक हुआ व्यक्ति जिसे कोई अन्य बीमारी नहीं है वह अपना प्लाजमा कल्पना चावला राजकीय मेडिकल कॉलेज में डोनेट कर सकता है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण से ठीक हुए व्यक्ति को अपना प्लाजमा करने में कोई दिक्कत नहीं होती तथा यह पूरी तरह से सुरक्षित है।

उपायुक्त ने बताया कि पिछले दिनों करनाल जिला में कोरोना संक्रमण के मामलों में काफी ज्यादा बढ़ोतरी हुई है, हालांकि जिले में कोरोना संक्रमण से 7058 के मुकाबले 5840 व्यक्ति ठीक हो चुके हैं, इस प्रकार रिकवरी रेट 81 प्रतिशत तथा पॉजिटिविटी रेट 8.1 प्रतिशत है।

उपायुक्त ने जिलावासियों से अपील की है कि हमें कोरोना महामारी से बचाव के लिए सावधानी बरतने की जरूरत है। जिस भी व्यक्ति को बुखार, सांस लेने में तकलीफ, खांसी हो वह अपना टैस्ट कल्पना चावला राजकीय मेडिकल कॉलेज में जरूर करवाएं तथा अपने आसपास के लोगों को इस बीमारी से बचाएं। उन्होंने कहा कि जिलावासी ज्यादा से ज्यादा संख्या में अपने टैस्ट करवाएं, प्रशासन द्वारा इसके लिए समुचित प्रबंध किए गए हैं। केसीजीएमसी के अलावा, सैक्टर 16 स्थित डिस्पैंसरी, 7 सीएचसी व अन्य प्राईवेट अस्पतालों में कोरोना टैस्ट की सुविधा उपलब्ध है।
उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन द्वारा कोरोना मरीजों के लिए बैड, वैंटिलेटर की उचित व्यवस्था है तथा इससे संबंधित किसी अन्य जानकारी  karnal.gov.in तथा karnalcovid.in वैबसाईट पर जाकर ले सकता है। उन्होंने कहा कि कोरोना टैस्ट के लिए व्यक्ति का मोबाईल नम्बर लिया जाता है तथा उसकी रिपोर्ट उसके मोबाईल पर भेज दी जाती है तथा एक पीडीएफ लिंक भी मैसेज के माध्यम से भेजा जाता है। जिससे वह व्यक्ति जरूरत पडऩे पर अपनी रिपोर्ट दिखा सकता है। उन्होंने कहा कि किसी को भी घबराने की जरूरत नहीं है और ज्यादा से ज्यादा संख्या में टैस्ट करवाएं।