करनाल -करनाल ने10 लाख से कम जनसंख्या वाले नगर निगमों में देशभर में हासिल किया चौथा रैंक

0
54

करनाल – शहर के नागरिकों के जीवन स्तर को आसान बनाने, उन्हें बेहतर सुविधाएं मुहैया करवाने व स्वच्छता के मामलो में बेहतर कदम उठाने के लिए म्यूनिसिपल परफॉरमेंस इंडैक्स (नगर निगम का प्रदर्शन)-2020 में 10 लाख से कम जनसंख्या वाले नगर निगम व नगर पालिकाओं में करनाल नगर निगम देशभर में चौथे स्थान पर आया है। आवासीय एवं शहरी मामले मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने गुरूवार को इसकी अधिकारिक घोषणा की और विडियो कॉन्फ्रैंसिंग के माध्यम से निगमायुक्त को शुभकामनाएं दी। इस उपलब्धि के लिए नगर निगम आयुक्त विक्रम ने सभी शहरवासियों को बधाई दी।

क्या है म्यूनिसिपल परफोर्मेंस इंडैक्स (एमपीआई)- निगमायुक्त ने बताया कि म्यूनिसिपल परफोर्मेंस इंडैक्स यानि नगरपालिका प्रदर्शन सूचकांक, नगरपालिका की कार्यक्षमता और उनके विकास व क्षमताओं की सीमा के बारे में बारिक समझ प्रदान करता है। इसके माध्यम से नागरिक अपनी स्थानीय सरकार व प्रशासन को बेहतर ढंग से समझ सकते हैं, जो बदले में पारदर्शिता बनाता है और प्रमुख हितधारकों के बीच विश्वास पैदा करता है। आयुक्त ने बताया कि नई दिल्ली नगर निगम, तिरूपति व गांधीनगर के बाद करनाल नगर निगम को देश में चौथा रैंक हासिल हुआ है।

फ्रेमवर्क में यह क्षेत्र रहे शामिल- आयुक्त ने बताया कि एमपीआई के फ्रेमवर्क में 20 विभिन्न क्षेत्रों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य, जल और अपशिष्ट जल, सोलिड वेस्ट मैनेजमेंट और स्वच्छता, इन्फ्रास्ट्रक्चर, राजस्व प्रबंधन, व्यय प्रबंधन, डिजिटल प्रशासन, डिजिटल साक्षरता, योजना तैयार करना, योजना कार्यान्वयन, पारदर्शिता और पारदर्शिता जवाबदेही, मानव संसाधन, भागीदारी और प्रभावशीलता को शामिल किया गया था।
निगमायुक्त ने बताया कि करनाल नगर निगम ने पिछले 3 वर्षों से ओडीएफ प्लस-प्लस सर्टिफिकेशन कायम रखा है और स्वच्छ सर्वेक्षण में भी लगातार सम्मानजनक रैंकिंग हासिल कर रहा है, जो अपने-आप में एक बड़ी उपलब्धि है। उन्होंने नागरिकों से अपील की कि इस उपलब्धि को भविष्य में भी बनाए रखें। आयुक्त ने कहा कि शहर को साफ-सुथरा बनाए रखने, नागरिकों को बेहतर सुविधाएं मुहैया करवाने व उनके जीवन स्तर को आसान बनाने के लिए नगर निगम दिन-रात प्रयासरत रहेगा।