पानीपत – निम्बरी गांव में ट्यूबवेल लगवाने के लिए जन स्वास्थ्य विभाग पर कब्रिस्तान में कब्रें उखाड़ने का आरोप 

0
12

रिपोर्ट-प्रवीण भारद्वाज/पानीपत – पानीपत जिले के गांव निम्बरी में जन स्वास्थ्य विभाग की टीम ने ट्यूबवेल लगाने के लिए गांव में बनी मुस्लिम समाज की कब्र को उखाड़ दिया l जिसके बाद समुदाय के लोगों में रोष देखने को मिला l इसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने जेसीबी मशीन को रूकवाया और मामले को शांत कराया l इस घटना के बाद गांव में तनाव का माहौल बना हुआ है l गुस्साए ग्रामीण मामले को लेकर एसपी मनीषा चौधरी के पास पहुंचे जन स्वास्थ्य विभाग के एसडीओ ने बताया अगर ग्रामीणों को एतराज है तो किसी भी सूरत में ट्यूबवेल नहीं लगाएंगे साथ ही एसडीओ ने कोई भी कब्र न उखाड़ने की बात कही l

मुस्लिम समुदाय के लोगों का कहना है कि ग्राम पंचायत सरपंच वीरू मलिक ने कब्रिस्तान की जगह पर जन स्वास्थ्य विभाग द्वारा जल घर बनवाने के लिए जेसीबी मशीन से कब्रिस्तान में मिट्टी समतल करवाने लगे, तो जेसीबी मशीन से कई कब्र उखड़ गई l उसी समय मुस्लिम समुदाय के लोग मौके पर पहुंचकर इसका विरोध करने लगे l मगर जनस्वास्थ्य विभाग ने जेसीबी मशीन को नहीं रोका l जिसके बाद समुदाय के लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी l सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और कब्रिस्तान की मिट्टी समतल कर रही जेसीबी मशीन को वहां से खदेड़ दिया l साथ ही दोनों पक्ष के लोगों को शांत किया और शांति बनाए रखने की अपील की इसके बाद भी ग्रामीणों में जन स्वास्थ्य विभाग की कार्रवाई से भारी रोष देखने को मिल रहा है जिसके चलते सभी मुस्लिम समुदाय के लोग इकट्ठा होकर पानीपत एसपी मनीषा चौधरी से मिलने पहुंचे और पूरा मामला उनके संज्ञान में डाला l

वही जब इस बारे में जन स्वास्थ्य विभाग के एसडीओ हरविंदर सिंह से बात की तो उन्होंने बताया कि कार्रवाई के दौरान किसी भी मुस्लिम समुदाय की कोई कब्र नहीं उखाड़ी गई हालांकि एसडीओ साहब ने यह जरूर माना कि कब्रिस्तान की दीवार को तोड़कर भूमि को समतल जरूर किया गया लेकिन जैसे ही ग्रामीणों ने एतराज जताया तो उन्होंने काम को रोक दिया और अपनी मशीन को वापस बुला लिया वहीं अब एसडीओ साहब यह भी दावा कर रहे हैं lअगर ट्यूबवेल लगाने को लेकर ग्रामीण एतराज जताएंगे तो वह वहां पर किसी भी सूरत में ट्यूबवेल नहीं लगाएंगे lउन्होंने बताया कि जन स्वास्थ्य विभाग द्वारा गांव में एक ट्यूबवेल लगाना पास हुआ था जिसको लेकर वह गांव के सरपंच से जगह की मांग कर रहे थे जहां उन्हें कब्रिस्तान की जगह दी गई थी जहां पर उनकी टीम ट्यूबवेल लगाने पहुंची l