करनाल –  प्रदेश में 300 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की डिमांड जल्द पूरी होगी :मुख्यमंत्री मनोहर लाल

0
48

करनाल – हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने शनिवार सायं जिलों के प्रशासनिक अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए, कोविड मरीजों की संख्या, ऑक्सीजन की उपलब्धता तथा रेमडेसिविर टीके की सप्लाई को लेकर ताजा स्थिति पर समीक्षा कर रिपोर्ट ली। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों में खासकर कुछ जिलों के अंदर कोविड के मरीजों की संख्या बढ़ी है लेकिन दो दिन वीकेंड लॉकडाउन में कुछ मरीज घटे हैं, संभवत: और घट जाएं, लेकिन सभी जिले हालात से निपटने के लिए अपनी-अपनी तैयारी पुख्ता रखें।
सीएम ने कहा कि पिछले तीन दिन ऑक्सीजन की मारामारी रही, इसकी सप्लाई और वितरण को ठीक करने के लिए इंतजाम किए गए हैं। अब प्रदेश में 257 टन ऑक्सीजन की उपलब्धता हो गई है, जबकि 300 मीट्रिक टन  की डिमांड पूरी करने पर भी जोर दिया जा रहा है। इसके लिए स्थानीय स्तर पर इंतजाम किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि एचएसआईआईडीसी के तहत जो औद्योगिक गैस बनती थी उन्हें लाइसेंस देकर ऑक्सीजन में परिवर्तित करने को कह दिया गया है, 15 उद्योगों को ऐसे लाईसेंस दे दिए हैं। कुछ ऐसे प्लांट हैं जो अपनी ऑक्सीजन खुद जनरेट करते हैं। उन्होंने बताया कि ट्रेन से प्रदेश के लिए 6 टैंकर आ गए हैं, इनसे सप्लाई सुनिश्चित हो जाएगी। फिर भी जिलों में ऑक्सीजन के उपयोग को कंट्रोल करने की जरूरत है। इसके लिए बेहतर होगा कि जो रोगी रिकवरी कर रहे हैं, उनसे बैड खाली करवा लिए जाएं ताकि वेटिंग में बैठे मरीजों को बैड दिया जा सके। अनुमान देते हुए सीएम ने कहा कि हर अस्पताल में ऐसे कम से कम 15 प्रतिशत बैड खाली हो जाने चाहिएं। हर जिले में उपायुक्त व सीएमओ की कमेटी बनी है, इनके साथ एक आईएमए का प्रतिनिधि भी मिलकर हर अस्पताल का बैड ऑडिट कर लें। इसी प्रकार जिन मरीजों का ऑक्सीजन लेवल 92 से ऊपर है उन्हें आईसीयू बैड की जरूरत नहीं है वे घर पर ही छोटे सिलेंडर की सहायता से काम चला सकते हैं।
सीएम ने बताया कि कोविड से निपटने के लिए जिलों में एसीएस स्तर के अधिकारी समीक्षा और जरूरतों का समाधान करने के लिए लगाए गए हैं, अब कैबिनेट मंत्रियों को भी दो या तीन जिले देकर कोऑर्डिनेट करने को कह दिया गया है। उन्होंने कहा कि पिछले कोरोना लहर में सामाजिक संस्थाएं काफी एक्टिव थी, इस लहर में भी ऐसी संस्थाएं होम आइसोलेशन व इम्यूनिटी बढ़ाने की सामग्री में मदद कर सकती हैं।

करनाल में सेक्टर 12 लघु सचिवालय से वीसी में जुड़े एसीएस देवेन्द्र सिंह ने यह कहकर सरकार को धन्यवाद दिया कि करनाल के लिए 14 एनसथिटिक व 7 मेडिसिन के मेडिकल छात्र दिए जाने का आर्डर जारी हो गया है। इससे सोमवार को 50 बैड केसीजीएमसी में आईसीयू के चालू हो जाएंगे। उन्होंने एक और अच्छी बात बताई कि गुरूग्राम बेस नितिन लाईफ साईंसिज लिमिटेड के सीईओ डा. चेतन सोबती ने करनाल के लिए 100 रेमडेसिविर और ऑक्सीजन सिलेंडर देने का सहयोग दिया है। एसीएस ने सीएम को बताया कि कोविड मरीज को 4-5 दिन के अंदर स्टीरॉयड टीका या गोली की डोज दे दी जाए तो इससे ऑक्सीजन की जरूरत काफी कम हो जाती है और इससे 40 प्रतिशत बैड की डिमांड भी घट सकती है। उन्होंने बताया कि करनाल में तैयारी के लिए 50 बैड का पंचायत भवन में कोविड अस्पताल बनाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जिला में 12 टन ऑक्सीजन की डिमांड पूरी हो गई है, लेकिन इसकी आवश्यकता बढ़ सकती है। इस पर सीएम ने बताया कि बढ़ी हुई मांग भी पूरी कर दी जाएगी। एसीएस ने बताया कि जिला में अगले दो महीने यानि मई-जून की तैयारी के लिए भी इन्फ्रास्ट्रक्चर को बढ़ाने का प्लान कर रहे हैं। एसीएस ने बताया कि 2 मई से 18 प्लस आयु वर्ग के लोगों को वैक्सीन की डोज देना शुरू हो जाएगा। जिला की डिमांड 6 लाख डोज की है, इसमें से शनिवार को 18 हजार डोज मिल गई है। अगले कुछ दिनों में सारी जरूरत पूरी हो जाएगी और इस आयु वर्ग की जनसंख्या को वैक्सीनेट करने के लिए करीब 1 माह लग जाएगा।
एसीएस ने बताया कि जिला में रोजाना, 68 सरकारी तथा प्राइवेट जगहों पर भी करीब 3 हजार सैंपल लिए जा रहे हैं। इसके अतिरिक्त पुलिस विभाग द्वारा पिछले 40 दिनों के अंदर करीब 11 हजार मास्क न पहनने वालों के चालान किए गए हैं। डीसी निशांत कुमार यादव ने एसीएस को जिला में ऑक्सीजन, आईसीयू बेड और वैक्सीन को लेकर ताजा रिपोर्ट के बारे में जानकारी दी।