करनाल – उपायुक्त ने शेरगढ़ टापू, मुस्ताबाद व ढाकवाला घाट पर जाकर किया निरीक्षण

0
30

करनाल – उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने बताया कि बरसात के मौसम में यमुना नदी के जल बहाव से कोई नुकसान न हो इसके लिए 5 करोड़ 33 लाख रुपये की लागत से ढाकवाला, मुस्ताबाद व शेरगढ़ टापू में 13 नए स्टड व 10 स्टडों की मरम्मत का कार्य करवाया जा रहा है। यह सब कार्य बरसात के मौसम से पहले पूरा करवा लिया जाएगा। उपायुक्त ने स्टड बनाने वाले ठेकेदारों को सख्त निर्देश दिए कि यमुना नदी पर स्टड बनाने का कार्य समय रहते पूरा किया जाए, किसी प्रकार की दिक्कत आती है तो उसकी जानकारी दी जाए, इसके बावजूद भी समय पर स्टड बनाने का कार्य नहीं हुआ तो इसकी जिम्मेदारी ठेकेदार की होगी।
उपायुक्त ने मंगलवार को शेरगढ़ टापू, मुस्ताबाद व ढाकवाला में यमुना नदी के तट पर पानी से कटाव को रोकने के लिए सिंचाई विभाग द्वारा किए जा रहे प्रबंधों का जायजा लिया और अधिकारियों से तैयारियों की विस्तार से जानकारी भी ली। बता दें कि बरसात के मौसम में यमुना नदी में पानी का काफी उफान आने की संभावना लगातार बनी रहती है, इस पानी को काबू करने के लिए हर वर्ष सिंचाई विभाग कटाव को रोकने के लिए प्रबंध करता है। इसी कड़ी में इस वर्ष भी सिंचाई विभाग 13 नए स्टड व 10 स्टडों की मरम्मत के कार्य को करवा रहा है। इस कार्य पर करीब 5 करोड़ 33 लाख रुपये का खर्च आएगा। उपायुक्त ने बताया कि कोविड-19 के कारण स्टड बनाने के कार्य पर थोड़ी देरी जरूर हुई है। इसके बावजूद भी इसे निर्धारित समय पर पूरा कर लिया जाएगा। ठेकेदारों ने बताया कि इस बार स्टड बनाने के लिए प्रयोग होने वाले पत्थर मिलने में काफी दिक्कत आ रही है। इसलिए कार्य थोड़ा धीमा हो रहा है, प्रतिदिन जहां 16 हजार क्विंटल पत्थर आने चाहिए थे वहां अब 5 से 6 हजार क्विंटल मिल रहे हैं।
सिंचाई विभाग के अधीक्षक अभियंता संजय राहड़ व कार्यकारी अभियंता नवतेज सिंह ने उपायुक्त को बताया कि हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी यमुना पर स्टड बनाने का कार्य जारी है। बरसात के मौसम से पहले-पहले इस कार्य को पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि मुस्ताबाद में करीब 3 करोड़ 14 लाख रुपये की लागत से 3 नए स्टड बनाए जाएंगे और 7 पुराने स्टडों की मरम्मत की जाएगी तथा ढाकवाला में करीब 58 लाख रुपये की लागत से 1 नया स्टड बनाया जाएगा और 3 की मरम्मत की जाएगी। इसी प्रकार शेरगढ़ टापू में करीब 1 करोड़ 61 लाख रुपये की लागत से 9 नए स्टड बनाए जाएंगे। उन्होंने उपायुक्त को आश्वस्त किया कि बारिश के मौसम से पहले-पहले इस कार्य को पूरा कर लिया जाएगा।

उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने अपने दौरे के दौरान ग्रामीणों से बातचीत की, ग्रामीणों ने उपायुक्त को कहा कि स्टड बनाने के लिए बढिय़ा पत्थरों का प्रयोग हो और यह पानी आने से पहले-पहले बन जाएं ताकि पानी खेतों में खड़ी फसल को खराब न करें और न ही इस पानी से गांव के लोगों का नुकसान हो। उपायुक्त ने ग्रामीणों को आश्वासन दिलाया कि जो भी कार्य होगा उस पर कड़ी नजर रखी जाएगी। इसके लिए एसडीएम करनाल नरेन्द्र पाल मलिक विशेष रूप से निगरानी रखेंगे और संभव है कि तटों के प्रबंधों का कार्य बरसात के मौसम से पहले-पहले पूरा कर लिया जाए। किसी भी ग्रामीण को दिक्कत नहीं आने दी जाएगी।